सदस्य बनने के लिए यहाँ क्लिक करे । निःशुल्क रक्तदान सेवा | निःशुल्क एम्बुलेंस सेवा । निःशुल्क क़ानूनी सहायता । सेवाओं के लिए संपर्क करे -1800 -8896 -220

स्वच्छ भारत – स्वस्थ्य भारत

“स्वच्छता मानव सभ्यता की पहचान है, स्वच्छता मानव जीवन का मूल मंत्र है।”
एक स्वस्थ्य व निरोगी काया के लिए हमारा स्वच्छ रहना नितांत आवश्यक है, साथ ही साथ एक स्वस्थ्य वातावरण में रह कर ही मनुष्य स्वस्थ्य मस्तिष्क का स्वामी बनता है, अतः हमें अपने आपको, अपने आस-पास को, और अपने वातावरण को शुद्ध व स्वस्थ्य रखना अत्यंत ही आवश्यक है।
हमारी संस्था लोगों को घर जा जा कर साफ़ सफाई का संदेश देती है और उन्हें स्वस्थ्य व स्वच्छ रहना सिखाती है। हम लोगों के गली, मोहल्लों तक पंहुच कर वहां साफ़ सफाई करते हैं, साफ़ सफाई हो जाने के बाद हम वहां पर्यावरण को लाभ पंहुचने वाले वृक्ष जैसे कि नीम, पीपल आदि का वृक्षारोपण करते हैं, तथा रोपे गए वृक्ष की जिम्मेदारी उसी गली के लोगों को सौंपते हैं, ताकि उस गली में रह रहे लोग शुद्ध हवा की सांस ले सकें और खतरनाक बिमारियों से बचे रहें।
सबसे जरूरी बात, जिसपर हमें अमल करना चाहिए लेकिन हम करते नहीं हैं, वो ये हैं कि –

  • हम अपने घर – आँगन को तो साफ रखते हैं, लेकिन घर का कूड़ा गलियों में, मोहल्लों में, और सड़कों पर बिखरा देते हैं तथा उस गली, मोहल्ले, और सड़क के साफ-सफाई का जिम्मा सरकार पर छोड़ कर फुर्सत हो जाते हैं।
  • जबकि हमारी नैतिक जिम्मेदारी बनती कि हम जहाँ रहते हैं, या जहाँ कूड़ा फैलते हैं, उन सभी स्थानों के साफ़ सफाई का जिम्मा स्वयं उठाएं और जो भी व्यक्ति ऐसे सार्वजानिक स्थानों पर कूड़ा या गंदगी फैला रहा हो उसे ऐसा करने से रोकें और साथ ही साथ ऐसे लोगों को भी स्वच्छता के प्रति जागरूक करें।
  • हमें ये बात समझनी होगी कि ये राष्ट्र, ये राज्य, ये शहर, ये कस्बा, ये गांव, ये मोहल्ला, हमारा ही है। और इसके रख रखाव की जिम्मेदारी भी हमारी ही है, और हम अपने जिम्मेदारियों से मुंह नहीं मोड़ सकते हैं।

अगर हम वास्तव में चाहते हैं कि हमारा भारत स्वच्छ और स्वस्थ बना रहे तो हमें शुरुआत अपने आप से करनी होगी, हमें सबसे पहले अपनी गली को साफ रखना होगा, अगर हमने अपने-अपने गलियों को स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी उठा ली तो मोहल्ले, कस्बे, शहर और हमारा देश अपने आप ही स्वच्छ और साफ-सुथरा हो जाएगा।
आइए संकल्प लेते हैं कि हम अपने आस-पड़ोस, गली, मोहल्ला, सड़क, और अपने गांव या कस्बे को स्वच्छ बनाएँगे और एक स्वच्छ भारत व स्वस्थ भारत के निर्माण में अपनी अहम भूमिका निभाएंगे।